शैतानी खोपड़ी

“हैलो! दो-तीन पैकेट सिगरेट ऊपर के ले आओ”,कहते हुये रागनी के नौकर ने फोन काट दिया।

सिगरेट वाला डरते-डरते उस बदनाम मोनालिसा हवेली में आया।

चारों तरफ अजीब सा सन्नाटा था,तभी सामने से एक बुजुर्ग खांसता हुआ आया, वो घर का नौकर था शायद, उसने पैसे दिये और ले लिया उससे सिगरेट।

सिगरेट वालें कि आंखे हवेली के चारों तरफ रागनी मल्होत्रा को ढूंढ रही थी और ढूंढे भी क्यों ना आखिर चार दशकों से वो सबके दिल पर राज भी तो कर रही थी, काफी खुबसूरत और हसीन अदाकारा थी, पुरे भारत के कई लड़को का ख्वाब थी! इसके पीछे कितनी अदाकारा आयी और गयी, पर ये है कि दिन पर दिन जवान दिखती थी!अभी तो एक पिक्चर आयी थी जिसमें इसने बहुत से लड़को कि रात कि नींद उड़ा दिए थी! इंडस्ट्री कि सारी हिरोईनें जलती थी रागनी से, कुछेक को शक भी होता था, पर आजकल टेकनिक भी तो इतने आगे है, प्लास्टिक सर्जरी,डिपिगमेंटेशन और क्या-क्या जिससे सालों तक जवान दिख सकते हैं, आखिर पैसा बोलता है भाई! रागनी का एकक्षत्र राज था बालीवुड पर, वो बुड्ढी ही नहीं होती थी।

horror story in hindi language

“क्या है पैसे मिल गये ना अब निकलो यहाँ से”, बुड्ढा डपटा!

सिगरेट वाला हल्के से दौड़ते हुये बाहर चला गया।

अगल-बगल के सब लोगों को पता था रागनी अकेले उस घर में रहती थी रात को बस वाॅचमैन रहता था मेन गेट पर, सारे नौकर-चाकर अपने घर जाकर फिर सुबह वापस आ जाते थे।

रागनी कि तीन शादियां हो चुकी थी,एक किसी से अभी कुछ साल पहले ही शादी तोड़ी थी! पहले और दुसरे पति ने तो सुसाईड कर लिया, तीसरा पति भी इंडस्ट्री का अच्छा हीरो था, पर अब वो मानसिक विकृत सा बस शराब के नशे में डुबा रहता था!तीनों से उसे कोई संतान ना थी! बहुत लोग कहते रागनी मांगलिक है इसलिए ऐसा होता है! इधर अगले कुछ महीनों से इंडस्ट्री के बेहद ही सुंदर हीरो अंजन कपुर से इसके अफेयर के चर्चे शुमार पड़ थे, खबर यहां तक थी कि दोनों शादी भी करने वाले थे।

अंजन कपुर को रागनी का सारा इतिहास पता था, पर परवाना शमा से कहा दूर रह पाता है, लड़के खींचे चले आते थे ,इसकी खुबसुरती से इसकी ओर।

अंजन कि एक गर्लफ्रेंड थी इंडस्ट्री में करुणा भट्ट लोग कहते हैं, रागनी के चक्कर में आकर ही अंजन ने करुणा से ब्रेक- अप किया था।

दबे मुंह ये भी बातें आती है कि करुणा का बालीबुड में कैरियर भी रागनी के वजह से बरबाद हुआ था, क्योंकि करूणा को इंडस्ट्री के एक जाने माने शो-मैन हरिश भाई कि पिक्चर में काम मिला था, पर उस वक्त रागनी के पास कोई बड़ी फिल्म ना होने से उसने हरिश भाई से बात करके वो रोल खुद ले लिया था।

अब अंजन के भी जाने के बाद करूणा टुट चुकी थी, उसने मन में सोचा वो रागनी के घर जाकर उससे इस बारे में बात करेगी।

पर करूणा अंदर जाती कैसे उस मोनालिसा हवेली में बहुत गिने-चुने लोग जाते थे और करुणा को तो रागनी के वाॅचमैन तक जानते थे, उसका घुसना तो मुश्किल था।

करूणा ने एक प्लान बनाया और वो धोखे से रूप बदलकर और बुरका पहनकर हवेली में घुसी कि सीसीटीवी में ना दिख पाये और हवेली में ही एक जगह पर छुप कर रह गयी, मन में सोचा जैसे रात होगा बाहर निकलेगी और रागनी से बात करेगी! उसको पता था रात में रागनी हवेली में अकेली होती है।

जैसे रात हुआ, करूणा रागनी को ढुंढने लगी, पर रागनी कहीं ना दिखी,बहुत ढुंढने पर उसे एक रूम से बुड्ढी औरत के खांसने कि आवाज आ रही थी।

उसने झांक कर उस रुम के डोरलाॅक से देखा, सामने उसी कपड़े में जिसमें सुबह में रागनी थी, एक पुरे झूले हुये मांस वाली, सफेद बालो से ढका चेहरा,झुका हुया शरीर एक बुड्ढी औरत बैठी थी, एकदम भयानक का सा दृश्य था, करूणा ने कैसे भी अपनी चीख को रोका।

सामने उस बुढिया ने सिगरेट पी कर मेज पर रखा और उसी मेज पर एक मानव खोपड़ी पड़ी हुयी थी।

थोड़ी देर में खोपड़ी भयानक चित्कार करती हुयी हवा में रागनी के चारों तरफ उड़ने लगी।

हा हा हा… हा हा हा…

“मेरी शक्ति अब क्षीण हो रही है मुझे जल्दी तुम्हारे बच्चे कि खून कि बली चाहिए, वरना तुम हरदम के लिये बुड्ढी रह जाओगी, जवान रहना है तुम्हे तो तुमको अपने बच्चे कि बली अगले 3 महिने में देनी ही होगी, वरना तुम हरदम के लिये ऐसी ही बुड्ढी रह जाओगी जैसे रात में रोज रहना होता है तुमको”।

हा हा हा… हा हा हा..

” सुनो शैतानी खोपड़ी अंजन कुमार का बच्चा मेरे गर्भ में पल रहा है, हमने छुप कर कोर्ट मैरीज कर ली थी, बस 2-3 महिने और फिर तुमहे मेरे बच्चे कि मानव बली मिल जायेगी “, रागनी ने खांसते हुये कहा।

” पर ध्यान रखना अंजन कुमार को मेरा रहस्य ना पता चले वरना सब किये पर पानी फिर जायेगा, कैसे तुम्हारे तीसरे पति को सब पता चल गया था तो मुझे उसको मानसिक विकृत करना पड़ा था”, ये कहकर शैतानी खोपड़ी भयानक अट्टहास करने लगा।

हा हा हा… हा हा हा…

“तुम चिंता मत करो उस बेचारे को तो ये भी नहीं पता कि मेरे गर्भ में उसका बच्चा पल रहा है, वैसे भी तुमने जो वायदा किया था उसके मुताबिक ये मेरे बच्चे कि आखिरी बली होगी, उसके बाद मैं तुमहे दुसरे के बच्चों कि बली दे सकती हुं जो काफी आसान होगा मेरे लिये,उसके बाद मैं हरदम के लिये जवान हो जाऊंगी और रात मैं बुड्ढी भी नही होऊंगी!

हा हा हा.. हा हा हा”, कहकर रागनी नरभक्षियों जैसे हंसने लगती है।

“मानव बली,मानव बली का प्यासा हुं मैं, तुम मुझे खुन दो ,मैं तुमहे जवानी दुंगा, हा हा हा… हा हा हा… ” शैतानी खोपड़ी ने अट्टहास किया।

“बस ये बली हो जाये फिर अंजन को भी ठिकाने लगा दुंगी मैं”, बड़बड़ाते हुये रागनी वही बिस्तर पर सो गयी।

करुणा के आंसू नहीं रूक रहे थे, अगले दिन वो अंजन से मिलने गयी! पर उसने मिलने से मना कर दिया ,उसके सर पर रागनी का नशा जो था।

फिर भी करुणा के लाख गिड़गड़ाने पर वो बात करने को तैयार हुआ।

करुणा कि सारी बातें सुनने पर वो बोला”, करुणा बहुत हो गया, तुम रागनी का मुकाबला कभी नहीं कर सकती, तो अब तुमने हमदोनों को अलग और रागनी को बदनाम करने के लिये ये सब चीजें फैलानी शुरू कर दी, इतनी गिर गयी तुम, छी:।

“मुझे पता था तुम मेरी बातों को नहीं मानोगे इसलिए मैने रागनी के तीसरे पति हैदर को तुम्हारे पास लायी हूँ खुद बात कर लो इनसे”, करुणा ने कहा।

पर हमदोनों के शादी कि बात करुणा को कैसे पता चली ये तो बस मुझे और रागनी को ही पता थी, दोनों ने अपने कैरियर पर असर के वजह से इस बात को अभी छुपाने का सोचा था, ये बालीवुड है भाई हमारी सांस पर भी मिडिया की नजर होती है, हो सकता है कही से बात लीक हुयी हो”जब तक करुणा हैदर को बुलाने गयी, अंजन ने मन ही मन सोचा

“अब इस पागल और बेवड़े से क्या बात करु मैं, पर मैने अगर इसको नहीं सुना तो करुणा रोज मेरा दिमाग खाने आ जायेगी”, अंजन हैदर को देखकर मन में बड़बड़ात।

हैदर आया और इस वक्त वो होश में था।

हैदर हाथ जोडते हुये बोला, ” हमलोग आपका रिश्ता नहीं तोड़ना चाहते है,पर वो बहुत खतरनाक औरत है ! आपको याद होगी मेरी फिल्म रंग बिरंगे फूल उससे मै कितने चर्चे में था, रागनी मेरी हिरोइन थी उसमें, तभी से हमदोनो का अफेयर शुरू हुआ और शादी किया हमदोनों ने, पर शादी के बाद भी वो रात में अपने घर रहती थी और मैं अपने क्योंकि उसकी शादी की यही शर्त थी, उसके गर्भ में मेरा बच्चा था, वो बोली थी एक बच्चा होने के बाद वो साथ आकर रहेगी”।

“आखिर रागनी अकेले मोनालिसा हवेली में रहती कैसै है ,कही वो मुझे धोखा तो नहीं दे रही मैंने मन में सोचा”, हैदर ने गहरी सांस लेते हुये कहा।

फिर मैंने हवेली के अंदर चुपके से जाकर देखा तो वही पाया जो करुणा ने आपको बताया था।

“पर अंतर बस इतना था, मुझे शैतानी खोपड़ी ने देख लिया था! रागनी जैसे चाकू उठा कर मुझे मारने दौडी़! मैं उसके पैरों पर गिर गया और कहा मुझे छोड़ दो,तभी शैतानी खोपड़ी से एक किरन निकली और मै पागल सा हो गया।

खोपड़ी ने कहा कि छोड दो इसे रागनी अब ये जिंदा रहकर भी हमारा कुछ नहीं बिगाड़ पायेगा !

“जब भी मै ये राज किसी को बताना चाहता हुं मुझे हजारों शैतानी खोपडिया आस-पास दिखने लगती हैं और मुझे तरह-तरह से यातनाएं देती है अगर मैं वक्त पर उस जगह से ना हटुं, तो शायद वो मुझे मार भी देंगी! सेट पर कभी भी ये खोपड़ियां मुझे दिखने लगती थी, लोग सोचते मैं पागल हो गया हुं, धीरे-धीरे मुझे काम मिलना बंद हो गया और मै तनहाई में नशे का आदी हो गया! इस लड़की के आंखो मे मुझे तुम्हारे लिये प्यार दिखा, तो मैने इसकि मदद कि सोची और मैं अब ऐसी जिंदगी जीना भी नहीं चाहता हूँ, इसलिए तुमहे बचाने आया गया”, हैदर ने कहा।

“आज से तीसरे महिने कि अमावस को ये बली होगी, हो सके तो इस तबाही को रोक लो! और हां जब रागनी बली पुजा के लिये बैठी होगी तब वो खोपड़ी थोड़ा शक्तिहीन होगा, बस यही वक्त है तभी तुमको एक प्रहार से वो खोपड़ी तोड़ देनी हैं”, हैदर ने कहा।

तभी अचानक हैदर को वैसे ही दौरे पड़ने लगे,वो दोनो उसको जैसे हास्पिटल ले गये और भर्ती किया, तब तक हैदर मर चुका था।

अंजन उहापोह में अमावस का इंतजार करने लगा, क्योंकि जो कहानी हैदर ने बतायी थी वही चाल रागनी ने उसके साथ चली थी।

बच्चे का पुछने पर रागनी पहले तो सकुचायी फिर बोली उसके गर्भ में अंजन का 6 महिने का बच्चा है, पर उसने सोचा था वो उसे सरप्राईज देगी।

ये सब, बातें अंजन के विश्वास को और गहरा कर रही थी रागनी के खिलाफ।

जिस हाॅस्पिटल में रागनी का बच्चा हुआ अंजन ने पता लगा लिया पर रागनी ने उससे छिपाया था।

आखिर आ गया वो दिन अमावस का।

दोनों छुप कर गये! देखा बुढि़या रागनी रात के बारह बजे अनुष्ठान पर बैठी थी! आंखे बंद कर कुछ मंत्र जप कर रही थीऔर पास उसका नवजात बच्चा पडा़ रो रहा था।

उस बिलखते बच्चे को देखकर करूणा के अंदर कि ममता जाग गयी ,उसने दौड कर बच्चे को सीने से लगा लिया, तभी वो शैतानी खोपड़ी उड़कर आयी और अंजना कि आंखो को दांत से नोचकर निकाल दिया और जगह जगह चेहरे पर उसका मांस काटने लगा कि वो बच्चे को छोड़ दे।

करूणा ने भयानक चित्कार किया और भारी वेदना से रोने लगी, पर शायद कोई दैवीय शक्ति उसके ऊपर आ गयी थी कि उसने बच्चे को छोडा़ नहीं! ये देखकर रागनी भी उसके ऊपर झपटी, पर वो शक्तिहीन रुप में थी, ज्यादा कुछ नहीं कर पायी।

तभी अचानक से आवाज आयी कड़ाक खोपड़ी एक झटके में टुट गयी थी अंजन के एक लाठी के वार से।

रागनी उठ के पागलों सी उस टुटे खोपड़ी के टुकड़ों को समेटने लगी और रोने लगी उसको पता चल गया था अब वो हरदम के लिये इसी रूप में रह जायेगी।

अंजन,करूणा और वो बच्चा अपने घर वापस आ गये थे।

मोनालिसा हवेली से अब हरदम किसी बुढि़या कि चीख-पुकार कि आवाज आती थी! सब उसको भुतिया हवेली कहते थे।

रागनी रातों-रात बालीवुड से गायब हो चुकी थी और कहाँ गायब हुयी ये आज भी रहस्य थी दुनिया के लिये।

करूणा अपने नाम के अनुरूप उस विकृत चेहरे के साथ ममता का सौन्दर्य बिखेर रही थी और अब वो अंजन कि बीवी थी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: